December 2, 2020

IRCTC launches new rules for ticket booking | IRCTC ने लागू किया रेल टिकट बुक करने का नया नियम, पंजाब में 22 स्‍थानों पर है रेवले ट्रैक बाधित

1 min read

IRCTC launches new rules for ticket booking, railway track block in punjab - India TV Paisa
Photo:FILE PHOTO

रेलवे ट्रैक पर दौड़ती एक यात्री ट्रेन (च‍ित्र प्रतीकात्‍मक हैै)

नई दिल्‍ली। इंडियन रेलवे केटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (IRCTC) ने टिकट बुकिंग से जुड़ा नया नियम जारी किया है। Covid-19 महामारी के कारण नियमों में बदलाव किए गए हैं ताकि जरूरी प्रोटोकॉल का पालन किया जा सके। IRCTC ने अब फैसला किया है कि दूसरा रिजर्वेशन चार्ट ट्रेन खुलने से आधा घंटा पहले तैयार होगा। पिछले कुछ महीनों में कोरोनावायरस संक्रमण की वजह से दूसरा चार्ट दो घंटे पहले तैयार हो रहा था। कोरोनावायरस संक्रमण शुरू होने से पहले सामान्य तौर पर IRCTC पहला चार्ट ट्रेन खुलने के 4 घंटे पहले जारी करता था। बाकी बची सीटों के लिए टिकट काउंटर से टिकट बुक कराया जा सकता था। यहां तक की आधा घंटा पहले भी काउंटर से टिकट मिल जाता था। वे सेकेंड चार्ट बनने से पहले ऑनलाइन भी टिकट बुक कर सकते थे। ये सीट पहले आओ-पहले पाओ के आधार पर मिलती थीं।

रेलवे के सभी ज़ोन में अब ट्रेन खुलने से आधा घंटा पहले दूसरा रिजर्वेशन चार्ट जारी होगा। यह यात्रियों की सुविधा के लिए किया गया है। इंडियन रेलवे की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि दूसरा रिजर्वेशन चार्ट ट्रेन खुलने से 30 मिनट से लेकर 5 मिनट पहले तक जारी हो सकता है। इस दौरान अगर ट्रेन के टिकट कैंसिल किए जाते हैं तो रिफंड मिल जाएगा। इससे उन यात्रियों को राहत मिलेगी जिनका प्लान आखिरी मिनट में बदल जाता है और ट्रेन टिकट कैंसिल कराना पड़ता है।

रेल मंत्रालय ने बताया कि नए प्रावधान के लिए सॉफ्टवेयर में जरूरी बदलाव किए जाएंगे। टिकट बुकिंग के नए नियम 10 अक्टूबर से लागू हो चुके हैं। IRCTC के ऑनलाइन बुकिंग के बाकी नियमों में कोई बदलाव नहीं किया है। रेलवे के अधिकारियों के मुताबिक, यात्रियों को दो घंटे पहले रेलवे स्टेशन पर आना होगा।

पंजाब में 22 स्थानों पर ट्रैक बाधित   

पंजाब में शुक्रवार को भी रेलवे ट्रेन सेवाओं को फिर से शुरू नहीं किया जा सका है, क्योंकि 31 स्थानों में से 22 स्थानों पर अभी भी किसानों ने ट्रैक को अवरुद्ध कर रखा है। रेलवे ने कहा कि पटरियों के साफ होते ही वह ट्रेन सेवाओं को फिर से शुरू करने के लिए तैयार है। यहां वर्चुअल संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष और सीईओ वीके यादव ने कहा कि रेलवे पंजाब में ट्रेन सेवाओं को बहाल करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहा है। हालिया जानकारी के अनुसार, 22 स्थानों पर अवरोध अभी भी जारी है, जबकि किसानों ने सिर्फ नौ स्थानों को साफ किया है।

यादव ने कहा कि वह पंजाब के मुख्य सचिव के साथ लगातार संपर्क में थे और उन्होंने उनसे बाधाओं को दूर करने का अनुरोध किया है। सीईओ ने कहा कि बाधा हटने के बाद और एक बार हमें राज्य सरकार से सुरक्षा मंजूरी मिलने के बाद हम जल्द ही सभी ट्रेन सेवाएं शुरू करेंगे। यादव ने इस बात पर भी जोर दिया कि पहले मेल या एक्सप्रेस ट्रेनों में हुई बुकिंग को ट्रेनों के रद्द होने के कारण यात्रियों को टिकट शुल्क वापस किया जा रहा है।

 

यादव ने कहा कि रेलवे द्वारा रुकावटों को दूर करने के बाद यात्रियों के साथ-साथ मालगाड़ियों को भी चलाने की योजना है। उन्होंने कहा कि 24 सितंबर से हमें ट्रेन सेवाओं को रोकना पड़ा था। मालगाड़ी सेवाओं को 29 सितंबर से रोक दिया गया था, क्योंकि कई स्थानों पर नाकाबंदी की गई थी। साथ ही उन्होंने कहा कि राज्य सरकार से संकेत मिलने के बाद 22 अक्टूबर को कुछ मालगाड़ी सेवा शुरू की गई थी।

 

उन्होंने कहा कि हालांकि, हमें मालगाड़ी सेवाओं को रोकना पड़ा, क्योंकि किसान एक बार फिर पटरियों के पास इकट्ठे हो गए और लोगों और रेलवे अधिकारियों की जान जोखिम में डालकर वहां रेल चलाना संभव नहीं। यादव ने जोर देकर कहा कि राष्ट्रीय ट्रांसपोर्टर यात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए ट्रेन सेवाएं संचालित करना चाहते हैं। गौरतलब है कि सितंबर में केंद्र द्वारा पारित तीन विवादास्पद कृषि कानूनों को लेकर पंजाब में किसान आंदोलन कर रहे हैं। वे कानूनों को रद्द करने की मांग कर रहे हैं।

रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) के महानिदेशक अरुण कुमार ने कहा कि हमारे अधिकारियों ने पंजाब में रेल की पटरियों से नाकाबंदी हटाने के लिए डीजीपी पंजाब कार्यालय का दौरा किया। कुमार ने कहा कि हम पंजाब सरकार से नाकाबंदी हटाने और सुरक्षा सुनिश्चित करने का अनुरोध कर रहे हैं। इस सवाल पर कि क्या अन्य राज्यों में ट्रेन सेवाओं को पहले भी कभी रोका गया था, इस पर आरपीएफ के महानिदेशक ने कहा कि राजस्थान में गुर्जर आंदोलन के दौरान ट्रेन सेवाओं को पूरी तरह से रोक दिया गया था। राजस्थान में गुर्जर आंदोलन और पंजाब में किसानों के अनिश्चितकालीन विरोध के मद्देनजर मौजूदा स्थिति पर टिप्पणी करते हुए कुमार ने कहा कि राजस्थान में एक स्थान पर नाकाबंदी थी, जबकि पंजाब में कई स्थानों पर नाकाबंदी है। कई रणनीतिक स्थानों पर नाकाबंदी ने रेलवे के लिए परिचालन को फिर से शुरू करना असंभव बना दिया है।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.