November 26, 2020

pm kisan samman nidhi scheme helpline numbers | PM Kisan samman nidhi scheme: खाते में नहीं आए 6,000 रुपये तो यहां तुरंत करें फोन

1 min read

PM Kisan samman nidhi scheme: खाते में नहीं आए 6,000 रुपये तो यहां तुरंत करें फोन- India TV Paisa
Photo:KISAN CREDIT CARD

PM Kisan samman nidhi scheme: खाते में नहीं आए 6,000 रुपये तो यहां तुरंत करें फोन

नई दिल्‍ली। प्रधानमंत्री किसान सम्‍मान निधि योजना के तहत केंद्र सरकार देश के 10 करोड़ से ज्‍यादा किसानों को उनके बैंक खाते में सीधे 6,000 रुपए देती है। यह तीन बराबर किस्‍तों में मिलते हैं। 2020 में दो किस्‍तों में किसानों को 4,000 रुपए मिल चुके हैं और अब आखिरी 200 रुपए की किस्‍त दिसंबर में आने की संभावना है। अगर आपके खाते में अबतक 6,000 रुपये नहीं आए हैं तो आप केंद्रीय कृषि मंत्रालय की हेल्पलाइन पर फोन कर मदद ले सकते हैं। केंद्र सरकार की ओर से शुरू की गई ये किसानों से जुड़ी सबसे बड़ी योजना है और सरकार की कोशिश है कि हर वास्‍तविक किसान को इसका लाभ मिले ताकि खेती-किसानी में संकट का दौर खत्म किया जा सके।

यहां करें शिकायत, तुरंत मिलेगा समाधान

सबसे पहले आपके अपने क्षेत्र के लेखपाल और कृषि अधिकारी से संपर्क करना होगा और उन्हें इसकी जानकारी देनी होगी। अगर आपकी बातें ये लोग नहीं सुनते हैं तो आप इससे जुड़ी हेल्पलाइन पर भी फोन कर सकते हैं। आपको बता दें कि सोमवार से शुक्रवार तक पीएम-किसान हेल्प डेस्क के ई-मेल [email protected] पर संपर्क कर सकते हैं। वहां से भी न बात बने तो इस सेल के फोन नंबर 011-23381092 पर फोन करें।

सीधे करें कृषि मंत्रालय से संपर्क

मोदी सरकार की यह सबसे बड़ी किसान स्कीम है इसलिए किसानों को कई तरह की सहूलियतें भी दी गईं हैं। इसी में एक है हेल्पलाइन नंबर, जिसके जरिये देश के किसी भी हिस्से का किसान सीधे कृषि मंत्रालय से संपर्क कर सकता है।

  • पीएम किसान टोल फ्री नंबर: 18001155266
  • पीएम किसान हेल्पलाइन नंबर:155261
  • पीएम किसान लैंडलाइन नंबर्स: 011—23381092, 23382401
  • पीएम किसान की नई हेल्पलाइन: 011-24300606
  • पीएम किसान की एक और हेल्पलाइन: 0120-6025109
  • ई-मेल आईडी: [email protected]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.